दिल्ली में सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर काम जारी है। लेकिन तत्कालीन इस काम को कोरोना संकट में रोकने और इस प्रोजेक्ट पर काम कर रहे मजदूरों के सुरक्षा को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई याचिका दायर की गई थी जिसको लेकर हाइकोर्ट में सुनवाई चल रही है। बीते दिन की सुनवाई के दौरान अदालत में शापूरजी पालोनजी ग्रुप ने इस काम स्व जुड़ी सारी जानकारी दी और कहा कि इस प्रोजेक्ट्स से जुड़े जितने भी मज़दूर है उनके रुकने का बंदोबस्त किया गया है जिससे इस भयानक संकट में मजदूर ट्रैवेल करने से बच सके।
आपको बता दें इससे बाद शापूरजी पालोनजी ने कहा कि शुरुआती दौर में 250 लोगों के रुकने का इंतजाम किया गया था लेकिन वह संख्या बढ़कर280 हो गई है।
वहीं अदालत के सामने तर्क देते हुए कहा कि यह काम शुरू हो चुका है अब इसे रोकना मुश्किल है क्योंकि काम की शुरुआत हो चुकी है और कई जगह ऐसे भी हैं जहाँ लगातार काम जरूरी है, नही तो प्री मॉनसून और मॉनसून के समय मे पानी के जमाव से मलेरिया, डेंगू जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है। वही कामो को लेकर कहा कि इंडिया गेट से लेकर दफ्तरों तक सौन्दर्यीकरण का काम चालू है।
कोरोना से बचाव के लिए समय समय पर मजदूरों का टेस्ट करवाया जा रहा है और इससे जुड़ी सारी गाइडलाइन को फॉलो किया जा रहा है।

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट को लेकर हाइकोर्ट में हुई सुनवाई, मजदूरों को साइट पर रोकने का इंतजाम।

                                   

दिल्ली में सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर काम जारी है। लेकिन तत्कालीन इस काम को कोरोना संकट में रोकने और इस प्रोजेक्ट पर काम कर रहे मजदूरों के सुरक्षा को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई याचिका दायर की गई थी जिसको लेकर हाइकोर्ट में सुनवाई चल रही है। बीते दिन की सुनवाई के दौरान अदालत में शापूरजी पालोनजी ग्रुप ने इस काम स्व जुड़ी सारी जानकारी दी और कहा कि इस प्रोजेक्ट्स से जुड़े जितने भी मज़दूर है उनके रुकने का बंदोबस्त किया गया है जिससे इस भयानक संकट में मजदूर ट्रैवेल करने से बच सके।
आपको बता दें इससे बाद शापूरजी पालोनजी ने कहा कि शुरुआती दौर में 250 लोगों के रुकने का इंतजाम किया गया था लेकिन वह संख्या बढ़कर280 हो गई है।
वहीं अदालत के सामने तर्क देते हुए कहा कि यह काम शुरू हो चुका है अब इसे रोकना मुश्किल है क्योंकि काम की शुरुआत हो चुकी है और कई जगह ऐसे भी हैं जहाँ लगातार काम जरूरी है, नही तो प्री मॉनसून और मॉनसून के समय मे पानी के जमाव से मलेरिया, डेंगू जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है। वही कामो को लेकर कहा कि इंडिया गेट से लेकर दफ्तरों तक सौन्दर्यीकरण का काम चालू है।
कोरोना से बचाव के लिए समय समय पर मजदूरों का टेस्ट करवाया जा रहा है और इससे जुड़ी सारी गाइडलाइन को फॉलो किया जा रहा है।

Comments are closed.

Share This On Social Media!