विश्व स्वास्थ्य संगठन के स्पष्ट दिशानिर्देश में हर सौराष्ट्र को विश्वव्यापी कोविड को हराने के लिए युद्धस्तरिय टीकाकरण की अतिशीघ्र आवयश्कता है। मौजूदा सरकार के सत्र २०२१-२२ में टीकाकरण के लिए ३५००० करोड़ के आवंटन वाली रणनीतिक दिशा से असहमति जताते हुए वाई एस आर सी पी के लोक सभा एम पी संजीव कुमार सिंगारी ने उन पैसों से देश की स्वास्थ्य संसाधनों एवं संरचनाओं के विकास की बात रखी है।
देश के हर एक नागरिक का टीकाकरण असंभव है, ऐसे में 35000 करोड़ रुपए 6-9 महीनों तक के प्रतिरोध के लिए खर्च करना पैसों और संसाधनों की निर्मम बर्बादी है_ ऐसा उन्होंने संसदीय वाद-विवाद सत्र के दौरान कहा।

बायानानुसार प्रति १०० वर्ष में महामरियान आती रही हैं, ऐसे में कोविड को तवजजो देना अपव्यय होगा। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि चूंकि हैदराबाद जैसे बड़े शहरों ने ६०% तक की प्रतिरोध क्षमता प्राप्त कर ली है, ऐसे में इतनी राशि का आवंटन एक बचकानी चाल होगी। गौरतलब है कि बीते वर्ष कोविड ने डॉक्टर कुमार के ६ परिवारजनों को व लपेटे में लिया था।

लोकसभा सदस्य संजीव कुमार सिंगारी ने संसद में कहा कि सरकार कोविद के टीकाकरण अभियान पर 35,000 करोड़ रुपये खर्च नहीं करने चाहिए।

                                   

विश्व स्वास्थ्य संगठन के स्पष्ट दिशानिर्देश में हर सौराष्ट्र को विश्वव्यापी कोविड को हराने के लिए युद्धस्तरिय टीकाकरण की अतिशीघ्र आवयश्कता है। मौजूदा सरकार के सत्र २०२१-२२ में टीकाकरण के लिए ३५००० करोड़ के आवंटन वाली रणनीतिक दिशा से असहमति जताते हुए वाई एस आर सी पी के लोक सभा एम पी संजीव कुमार सिंगारी ने उन पैसों से देश की स्वास्थ्य संसाधनों एवं संरचनाओं के विकास की बात रखी है।
देश के हर एक नागरिक का टीकाकरण असंभव है, ऐसे में 35000 करोड़ रुपए 6-9 महीनों तक के प्रतिरोध के लिए खर्च करना पैसों और संसाधनों की निर्मम बर्बादी है_ ऐसा उन्होंने संसदीय वाद-विवाद सत्र के दौरान कहा।

बायानानुसार प्रति १०० वर्ष में महामरियान आती रही हैं, ऐसे में कोविड को तवजजो देना अपव्यय होगा। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि चूंकि हैदराबाद जैसे बड़े शहरों ने ६०% तक की प्रतिरोध क्षमता प्राप्त कर ली है, ऐसे में इतनी राशि का आवंटन एक बचकानी चाल होगी। गौरतलब है कि बीते वर्ष कोविड ने डॉक्टर कुमार के ६ परिवारजनों को व लपेटे में लिया था।

Comments are closed.

Share This On Social Media!