शनिवार को बॉम्बे हाईकोर्ट ने केंद्र से 1 जून से पहले ज्वेलरी की होलमार्किंग नहीं करने वाले ज्वेलर्स पर कार्यवाही न करने के लिए कहा है। दरअसल, ऑल इंडिया जेम ऐंड ज्वेलरी डोमेस्टिक काउंसिल (जीजेसी) ने हाईकोर्ट में एक याचिका दर्ज की थी। जानकारी के अनुसार, केंद्र ने 1 जून से ज्वेलरी की अनिवार्य होलमार्किंग करने के दिशानिर्देश दिए थे। “कोई भी विस्तार की मांग नहीं की गई।

उपभोक्ताओं मामलों की सचिव लीना नंदन ने कहा, भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) पहले से ही पूरी तरह से सक्रिय है और हॉलमार्किंग के लिए ज्वैलर्स को मंजूरी देने में शामिल है ।

बीआईएस महानिदेशक प्रमोद कुमार ने कहा, हम अनिवार्य हॉलमार्किंग को लागू करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। अगले दो महीनों में हम उम्मीद करते है कि ज्वैलर्स का रजिस्ट्रेशन करीब एक लाख तक पहुंच जाएगा ।

अब तक 34,647 ज्वैलर्स ने बीआईएस में रजिस्ट्रेशन कराया है, जिससे रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया ऑनलाइन और ऑटोमैटिक हो गई है। नवंबर 2019 में, केंद्र ने अधिसूचित किया था कि 15 जनवरी, 2021 से देश भर में सोने के आभूषणों और कलाकृतियों की हॉलमार्किंग अनिवार्य कर दी जाएगी। कॉविड-19 महामारी के चलते ज्वैलर्स द्वारा समय मांगे जाने के बाद यह समय सीमा 1 जून तक बढ़ा दी गई थी।

जून से पहले ज्वेलरी की होलमार्किंग अनिवार्य नहीं : केंद्र से बॉम्बे हाईकोर्ट

                                   

शनिवार को बॉम्बे हाईकोर्ट ने केंद्र से 1 जून से पहले ज्वेलरी की होलमार्किंग नहीं करने वाले ज्वेलर्स पर कार्यवाही न करने के लिए कहा है। दरअसल, ऑल इंडिया जेम ऐंड ज्वेलरी डोमेस्टिक काउंसिल (जीजेसी) ने हाईकोर्ट में एक याचिका दर्ज की थी। जानकारी के अनुसार, केंद्र ने 1 जून से ज्वेलरी की अनिवार्य होलमार्किंग करने के दिशानिर्देश दिए थे। “कोई भी विस्तार की मांग नहीं की गई।

उपभोक्ताओं मामलों की सचिव लीना नंदन ने कहा, भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) पहले से ही पूरी तरह से सक्रिय है और हॉलमार्किंग के लिए ज्वैलर्स को मंजूरी देने में शामिल है ।

बीआईएस महानिदेशक प्रमोद कुमार ने कहा, हम अनिवार्य हॉलमार्किंग को लागू करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। अगले दो महीनों में हम उम्मीद करते है कि ज्वैलर्स का रजिस्ट्रेशन करीब एक लाख तक पहुंच जाएगा ।

अब तक 34,647 ज्वैलर्स ने बीआईएस में रजिस्ट्रेशन कराया है, जिससे रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया ऑनलाइन और ऑटोमैटिक हो गई है। नवंबर 2019 में, केंद्र ने अधिसूचित किया था कि 15 जनवरी, 2021 से देश भर में सोने के आभूषणों और कलाकृतियों की हॉलमार्किंग अनिवार्य कर दी जाएगी। कॉविड-19 महामारी के चलते ज्वैलर्स द्वारा समय मांगे जाने के बाद यह समय सीमा 1 जून तक बढ़ा दी गई थी।

Comments are closed.

Share This On Social Media!