नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने शुक्रवार को तेलंगाना सरकार को विज़ुअल रेंज के भीतर वैक्सीन के प्रयोगात्मक वितरण के लिए ड्रोन का उपयोग करने की अनुमति दे दी। हालांकि, मंत्रालय ने यह उल्लेख नहीं किया कि कौन सी वैक्सीन का प्रयोगात्मक वितरण इसका हिस्सा होगा। बकौल मंत्रालय, यह छूट एक वर्ष की अवधि या फिर अगले आदेश तक मान्य रहेगी।

नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने शुक्रवार को तेलंगाना सरकार को दृश्य रेखा के भीतर टीकों की प्रायोगिक डिलीवरी के लिए ड्रोन का इस्तेमाल करने की अनुमति दी । मंत्रालय के बयान में इस बात का जिक्र नहीं है कि कौन सा विशेष टीका इस प्रायोगिक प्रसव का हिस्सा होगा।मंत्रालय ने ट्विटर पर कहा कि उसने तेलंगाना सरकार को मानवरहित विमान प्रणाली (यूएएस) नियम, 2021 से “दृष्टि सीमा की दृश्य रेखा के भीतर ड्रोन का उपयोग करते हुए टीकों की प्रायोगिक डिलीवरी” के लिए सशर्त छूट प्रदान की है ।

यह छूट एक वर्ष की अवधि के लिए या अगले आदेश तक मान्य होगी, यह नोट किया । 22 अप्रैल को मंत्रालय ने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) को COVID-19 वैक्सीन देने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल करने पर व्यवहार्यता अध्ययन करने की अनुमति दी थी । केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को कहा, देश में प्रशासित COVID-19 वैक्सीन की खुराक की संचयी संख्या 15 करोड़ को पार कर गई है ।भारत कोरोनावायरस संक्रमण की दूसरी लहर से जूझ रहा है क्योंकि कई राज्यों के अस्पताल मेडिकल ऑक्सीजन और बेड की कमी से जूझ रहे हैं।

कोविड-19 टीकाकरण की केंद्र की उदारीकृत और त्वरित चरण-3 रणनीति शनिवार से लागू कर दी जाएगी। नए पात्र जनसंख्या समूहों के लिए पंजीकरण बुधवार से शुरू हो गया । शुक्रवार को अपडेट किए गए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, भारत ने 24 घंटे के अंतराल में 3,86,452 नए कोरोनावायरस संक्रमण देखे, जो अब तक की सबसे ज्यादा एकल दिन की वृद्धि है, जो COVID-19 मामलों की कुल संख्या को 1,87,62,176 तक धकेल रहा है, जबकि सक्रिय मामलों ने 31 लाख का आंकड़ा पार कर लिया ।

 

 

 

 

तेलंगाना में ड्रोन से होगी वैक्सीन की डिलीवरी, नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने दी अनुमति

                                   

नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने शुक्रवार को तेलंगाना सरकार को विज़ुअल रेंज के भीतर वैक्सीन के प्रयोगात्मक वितरण के लिए ड्रोन का उपयोग करने की अनुमति दे दी। हालांकि, मंत्रालय ने यह उल्लेख नहीं किया कि कौन सी वैक्सीन का प्रयोगात्मक वितरण इसका हिस्सा होगा। बकौल मंत्रालय, यह छूट एक वर्ष की अवधि या फिर अगले आदेश तक मान्य रहेगी।

नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने शुक्रवार को तेलंगाना सरकार को दृश्य रेखा के भीतर टीकों की प्रायोगिक डिलीवरी के लिए ड्रोन का इस्तेमाल करने की अनुमति दी । मंत्रालय के बयान में इस बात का जिक्र नहीं है कि कौन सा विशेष टीका इस प्रायोगिक प्रसव का हिस्सा होगा।मंत्रालय ने ट्विटर पर कहा कि उसने तेलंगाना सरकार को मानवरहित विमान प्रणाली (यूएएस) नियम, 2021 से “दृष्टि सीमा की दृश्य रेखा के भीतर ड्रोन का उपयोग करते हुए टीकों की प्रायोगिक डिलीवरी” के लिए सशर्त छूट प्रदान की है ।

यह छूट एक वर्ष की अवधि के लिए या अगले आदेश तक मान्य होगी, यह नोट किया । 22 अप्रैल को मंत्रालय ने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) को COVID-19 वैक्सीन देने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल करने पर व्यवहार्यता अध्ययन करने की अनुमति दी थी । केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को कहा, देश में प्रशासित COVID-19 वैक्सीन की खुराक की संचयी संख्या 15 करोड़ को पार कर गई है ।भारत कोरोनावायरस संक्रमण की दूसरी लहर से जूझ रहा है क्योंकि कई राज्यों के अस्पताल मेडिकल ऑक्सीजन और बेड की कमी से जूझ रहे हैं।

कोविड-19 टीकाकरण की केंद्र की उदारीकृत और त्वरित चरण-3 रणनीति शनिवार से लागू कर दी जाएगी। नए पात्र जनसंख्या समूहों के लिए पंजीकरण बुधवार से शुरू हो गया । शुक्रवार को अपडेट किए गए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, भारत ने 24 घंटे के अंतराल में 3,86,452 नए कोरोनावायरस संक्रमण देखे, जो अब तक की सबसे ज्यादा एकल दिन की वृद्धि है, जो COVID-19 मामलों की कुल संख्या को 1,87,62,176 तक धकेल रहा है, जबकि सक्रिय मामलों ने 31 लाख का आंकड़ा पार कर लिया ।

 

 

 

 

Comments are closed.

Share This On Social Media!