सोमवार शाम तिरुपति स्थित एसवीआरआर अस्पताल में 5-10 मिनट तक ऑक्सीजन आपूर्ति रुक जाने के कारण 11 कोविड -19 मरीज़ो की मौत हो गई। चित्तुर जिले के कलेक्टर एम. हरिनारायणन ने बताया कि श्रीपेरबदुर (तमिलनाडु) से टैंकर आने से हुई देरी के चलते ऐसा हुआ। मुख़्यमंत्री वाई. एस. जगन मोहन रेड्डी ने घटना पर शोक जताया है।

मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित होने के बाद सोमवार को आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले के तिरुपति के एक अस्पताल में ग्यारह कोविड-19 मरीजों की मौत हो गई, अधिकारियों का हवाला देते हुए इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट ।

यह घटना श्री वेंकटेश्वर रामनारायण रुइया राजकीय सामान्य अस्पताल के गहन चिकित्सा इकाई वार्ड में ऑक्सीजन ले जा रहे टैंकर के लेट होने के बाद हुई।सोमवार को जिलाधिकारी एम हरि नारायण ने बताया कि ऑक्सीजन सपोर्ट पर आए 11 मरीजों की मौत हो गई, लेकिन वे कई अन्य लोगों को बचाने में सफल रहे । तिरुपति, चित्तूर, नेल्लोर और कडपा से अस्पताल में करीब १,० कोरोनवायरस मरीजों का इलाज किया जा रहा था ।

नारायण ने एनडीटीवी की खबर देते हुए कहा, ऑक्सीजन सिलेंडर को फिर से लोड करने में पांच मिनट का अंतराल था जिसकी वजह से दबाव गिरा । “ऑक्सीजन की आपूर्ति पांच मिनट के भीतर बहाल कर दिया गया था और सब कुछ अब सामांय है । हमने बल्क सिलेंडर ों को जोड़ा है और चिंता करने का कोई कारण नहीं है। मेडिकल स्टाफ द्वारा त्वरित कार्रवाई के कारण एक बड़ी आपदा टल गई ।

अस्पताल की क्षमता १,१०० से अधिक बिस्तरों की है और आईसीयू में १०० से अधिक मरीज हैं और ऑक्सीजन बेड पर ४०० । इसमें शामिल होने के लिए करीब 30 डॉक्टरों को आईसीयू वार्ड में भेजा गया था।

इस घटना के बाद मृतक मरीजों के रिश्तेदारों ने कथित तौर पर आईसीयू वार्ड में तोड़-कर खराब उपकरण दिए । अधिकारियों ने कहा कि नर्सों और डॉक्टरों को आईसीयू वार्ड से भागना पड़ा और पुलिस के पहुंचने के बाद वापस लौट गए और स्थिति पर नियंत्रण कर लिया ।

ऑक्सीजन आपूर्ति रुकने से आंध्र के अस्पताल में 11 कोविड -19 मरीज़ो की मौत

                                   

सोमवार शाम तिरुपति स्थित एसवीआरआर अस्पताल में 5-10 मिनट तक ऑक्सीजन आपूर्ति रुक जाने के कारण 11 कोविड -19 मरीज़ो की मौत हो गई। चित्तुर जिले के कलेक्टर एम. हरिनारायणन ने बताया कि श्रीपेरबदुर (तमिलनाडु) से टैंकर आने से हुई देरी के चलते ऐसा हुआ। मुख़्यमंत्री वाई. एस. जगन मोहन रेड्डी ने घटना पर शोक जताया है।

मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित होने के बाद सोमवार को आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले के तिरुपति के एक अस्पताल में ग्यारह कोविड-19 मरीजों की मौत हो गई, अधिकारियों का हवाला देते हुए इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट ।

यह घटना श्री वेंकटेश्वर रामनारायण रुइया राजकीय सामान्य अस्पताल के गहन चिकित्सा इकाई वार्ड में ऑक्सीजन ले जा रहे टैंकर के लेट होने के बाद हुई।सोमवार को जिलाधिकारी एम हरि नारायण ने बताया कि ऑक्सीजन सपोर्ट पर आए 11 मरीजों की मौत हो गई, लेकिन वे कई अन्य लोगों को बचाने में सफल रहे । तिरुपति, चित्तूर, नेल्लोर और कडपा से अस्पताल में करीब १,० कोरोनवायरस मरीजों का इलाज किया जा रहा था ।

नारायण ने एनडीटीवी की खबर देते हुए कहा, ऑक्सीजन सिलेंडर को फिर से लोड करने में पांच मिनट का अंतराल था जिसकी वजह से दबाव गिरा । “ऑक्सीजन की आपूर्ति पांच मिनट के भीतर बहाल कर दिया गया था और सब कुछ अब सामांय है । हमने बल्क सिलेंडर ों को जोड़ा है और चिंता करने का कोई कारण नहीं है। मेडिकल स्टाफ द्वारा त्वरित कार्रवाई के कारण एक बड़ी आपदा टल गई ।

अस्पताल की क्षमता १,१०० से अधिक बिस्तरों की है और आईसीयू में १०० से अधिक मरीज हैं और ऑक्सीजन बेड पर ४०० । इसमें शामिल होने के लिए करीब 30 डॉक्टरों को आईसीयू वार्ड में भेजा गया था।

इस घटना के बाद मृतक मरीजों के रिश्तेदारों ने कथित तौर पर आईसीयू वार्ड में तोड़-कर खराब उपकरण दिए । अधिकारियों ने कहा कि नर्सों और डॉक्टरों को आईसीयू वार्ड से भागना पड़ा और पुलिस के पहुंचने के बाद वापस लौट गए और स्थिति पर नियंत्रण कर लिया ।

Comments are closed.

Share This On Social Media!