गोरखपुर के चर्चित हत्याकांड छोटू सिंह में एक बार फिर नया मोड़ सामने आया है| ख़बरों के मुताबिक छोटू सिंह मर्डर केस की फाइल फिर से खोलने की तैयारी है। एसएसपी ने कोर्ट से पत्रावली को वापस कराने की प्रक्रिया शुरू का निर्देश मातहतों को दिया है। साथ ही वादी से फिर से संपर्क किया जा रहा है।एसएसपी दिनेश कुमार पी ने कहा कि छोटू सिंह हत्याकांड की फाइल फिर से खोली जाएगी। इससे संबंधित फाइल को न्यायालय से मंगाने के लिए प्रक्रिया शुरू करने का आदेश दिया गया है। इसकी पत्रावली गायब है, उसे भी खोजा जा रहा है। कहीं फाइल जानबूझकर गायब तो नहीं की गई, इसकी भी जांच कराई जाएगी।

गौरतलब है की 10 नवंबर 2013 को शिवपुर सहबाजगंज निवासी बिजेंद्र सिंह उर्फ छोटू सिंह की कारबाइन और पिस्टल से गोली मारकर फिल्मी अंदाज में हत्या की गई थी। एक ब्रह्मभोज में पहुंचे छोटू सिंह पर अचानक बदमाशों ने हमला किया था। बदमाश चारपहिया वाहन से पहुंचे थे। इस मामले में छोटू सिंह की पत्नी ने माफिया व निवर्तमान ब्लॉक प्रमुख सुधीर सिंह, उसके भाई उदयवीर सिंह सहित 10 अज्ञात लोगों पर केस दर्ज कराया था। तब पुलिस ने सुधीर सिंह के नजदीकी रिश्तेदार को गिरफ्तार कर चारपहिया बरामद की थी। लेकिन बाद में सुधीर का नाम केस से बाहर हो गया था। इस सिलसिले में सुधीर सिंह का पक्ष नहीं मिल सका है। पक्ष मिलते ही प्रकाशित किया जाएगा।

देवरिया ट्रांसफर हो गई थी विवेचना
इस मामले की विवेचना देवरिया जिले में ट्रांसफर हो गई थी। देवरिया क्राइम ब्रांच में तैनात रहे एसआई बीबी सिंह ने सुधीर सिंह सहित चार को क्लीनचिट दे दी थी। मामले की जानकारी होने पर तत्कालीन एसएसपी आरके भारद्वाज ने डीआईजी और आईजी को पत्र लिखकर मामले की दोबारा जांच कराने की मांग की। तब सामने आया कि घटना के गवाह अपने बयान से मुकर गए और विवेचक ने वादी के समझौता करने का हवाला देते हुए सुधीर सिंह का नाम केस से बाहर कर दिया। सीनियर पुलिस अफसरों के ट्रांसफर के बाद मामले दबता चला गया।

फिर से खुलेगी गोरखपुर के इस चर्चित हत्याकांड की फाइल

                                   

गोरखपुर के चर्चित हत्याकांड छोटू सिंह में एक बार फिर नया मोड़ सामने आया है| ख़बरों के मुताबिक छोटू सिंह मर्डर केस की फाइल फिर से खोलने की तैयारी है। एसएसपी ने कोर्ट से पत्रावली को वापस कराने की प्रक्रिया शुरू का निर्देश मातहतों को दिया है। साथ ही वादी से फिर से संपर्क किया जा रहा है।एसएसपी दिनेश कुमार पी ने कहा कि छोटू सिंह हत्याकांड की फाइल फिर से खोली जाएगी। इससे संबंधित फाइल को न्यायालय से मंगाने के लिए प्रक्रिया शुरू करने का आदेश दिया गया है। इसकी पत्रावली गायब है, उसे भी खोजा जा रहा है। कहीं फाइल जानबूझकर गायब तो नहीं की गई, इसकी भी जांच कराई जाएगी।

गौरतलब है की 10 नवंबर 2013 को शिवपुर सहबाजगंज निवासी बिजेंद्र सिंह उर्फ छोटू सिंह की कारबाइन और पिस्टल से गोली मारकर फिल्मी अंदाज में हत्या की गई थी। एक ब्रह्मभोज में पहुंचे छोटू सिंह पर अचानक बदमाशों ने हमला किया था। बदमाश चारपहिया वाहन से पहुंचे थे। इस मामले में छोटू सिंह की पत्नी ने माफिया व निवर्तमान ब्लॉक प्रमुख सुधीर सिंह, उसके भाई उदयवीर सिंह सहित 10 अज्ञात लोगों पर केस दर्ज कराया था। तब पुलिस ने सुधीर सिंह के नजदीकी रिश्तेदार को गिरफ्तार कर चारपहिया बरामद की थी। लेकिन बाद में सुधीर का नाम केस से बाहर हो गया था। इस सिलसिले में सुधीर सिंह का पक्ष नहीं मिल सका है। पक्ष मिलते ही प्रकाशित किया जाएगा।

देवरिया ट्रांसफर हो गई थी विवेचना
इस मामले की विवेचना देवरिया जिले में ट्रांसफर हो गई थी। देवरिया क्राइम ब्रांच में तैनात रहे एसआई बीबी सिंह ने सुधीर सिंह सहित चार को क्लीनचिट दे दी थी। मामले की जानकारी होने पर तत्कालीन एसएसपी आरके भारद्वाज ने डीआईजी और आईजी को पत्र लिखकर मामले की दोबारा जांच कराने की मांग की। तब सामने आया कि घटना के गवाह अपने बयान से मुकर गए और विवेचक ने वादी के समझौता करने का हवाला देते हुए सुधीर सिंह का नाम केस से बाहर कर दिया। सीनियर पुलिस अफसरों के ट्रांसफर के बाद मामले दबता चला गया।

Comments are closed.

Share This On Social Media!