kartar news

वेंटिलेटर नौ महीने पहले पीएम-केरेस फंड के तहत प्राप्त हुए थे, लेकिन अभी तक संस्थान को चालू नहीं किया गया है। जहां एक तरफ ​​राज्य के कई हिस्सों में कोविड 19 के रोगियों के लिए महत्वपूर्ण देखभाल सुविधाओं की कमी है, वहीं डॉ बीआर अंबेडकर स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, मोहाली में 32 वेंटिलेटर 9 महीने से धूल खा रहे हैं।

वेंटिलेटर नौ महीने पहले पीएम-केरेस फंड के तहत प्राप्त हुए थे, लेकिन अभी तक संस्थान को चालू नहीं किया गया है। पंजाब सरकार ने 2021 से पहला शैक्षणिक सत्र शुरू करने की योजना बनाई थी, लेकिन कोविड की वजह से हुई तालाबंदी के कारण इसमें देरी हुई।

प्रिंसिपल डॉ भवनीत भारती ने कहा, ‘हमें पीएम-केयर फंड के तहत 32 वेंटिलेटर मिले हैं, लेकिन जब तक हम कॉलेज को चालू नहीं करेंगे तब तक हम इनका इस्तेमाल नहीं कर सकते। हम निरीक्षण के लिए नेशनल मेडिकल काउंसिल की एक टीम के आने का इंतजार कर रहे हैं, जो मार्च में होने वाली थी। हम निरीक्षण के बाद ही आगे बढ़ेंगे। ”

मोहाली मे नवनिर्मित मेडिकल कॉलेज मे धूल फाँकते 32 वेंटिलेटर

                                   

kartar news

वेंटिलेटर नौ महीने पहले पीएम-केरेस फंड के तहत प्राप्त हुए थे, लेकिन अभी तक संस्थान को चालू नहीं किया गया है। जहां एक तरफ ​​राज्य के कई हिस्सों में कोविड 19 के रोगियों के लिए महत्वपूर्ण देखभाल सुविधाओं की कमी है, वहीं डॉ बीआर अंबेडकर स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, मोहाली में 32 वेंटिलेटर 9 महीने से धूल खा रहे हैं।

वेंटिलेटर नौ महीने पहले पीएम-केरेस फंड के तहत प्राप्त हुए थे, लेकिन अभी तक संस्थान को चालू नहीं किया गया है। पंजाब सरकार ने 2021 से पहला शैक्षणिक सत्र शुरू करने की योजना बनाई थी, लेकिन कोविड की वजह से हुई तालाबंदी के कारण इसमें देरी हुई।

प्रिंसिपल डॉ भवनीत भारती ने कहा, ‘हमें पीएम-केयर फंड के तहत 32 वेंटिलेटर मिले हैं, लेकिन जब तक हम कॉलेज को चालू नहीं करेंगे तब तक हम इनका इस्तेमाल नहीं कर सकते। हम निरीक्षण के लिए नेशनल मेडिकल काउंसिल की एक टीम के आने का इंतजार कर रहे हैं, जो मार्च में होने वाली थी। हम निरीक्षण के बाद ही आगे बढ़ेंगे। ”

Comments are closed.

Share This On Social Media!