Last updated on May 12th, 2021 at 10:34 am

रक्षा मंत्री के कार्यालय ने बताया है कि सशस्त्र बलों को सशक्त बनाने और कोविड-19 स्थिति के खिलाफ देशव्यापी लड़ाई में अपने प्रयासों को तेज़ करने के लिए राजनाथ सिंह ने विशेष प्रावधान लागू कर सशस्त्र बलों को आपातकालीन वित्तीय शक्तियां प्रदान कीं। बतौर कार्यालय, ये शक्तियां उन्हें क्वारंटीन सेंटरों और अस्पतालों को स्थापित व संचालित करने में मदद करेंगी।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सशस्त्र बलों को विशेष अधिकार देने के लिए शुक्रवार को आपात प्रावधान लागू किए। इस निर्णय से सशस्त्र बल सहविड-19 संगरोध केन्द्रों और अस्पतालों की स्थापना और संचालन कर सकेंगे।

पिछले एक महीने में, सशस्त्र बलों के तीनों हथियारों को कोरोनावायरस महामारी की दूसरी लहर के खिलाफ भीषण लड़ाई में देश की सहायता के लिए उतारा गया है । डीआरडीओ पहले ही दिल्ली, लखनऊ और देश के अन्य हिस्सों में कोविद मरीजों के लिए आइसोलेशन और इलाज की सुविधा स्थापित कर चुका है।रक्षा मंत्री द्वारा लागू किए गए आपातकालीन प्रावधानों से गठन कमांडरों को कोविड-19 रोगियों के लिए संगरोध सुविधाएं और अस्पताल स्थापित करने और संचालित करने का अधिकार मिलेगा । उनके पास धन तक भी आसानी से पहुंच होगी जिसका उपयोग ऐसी सुविधाओं को प्राप्त करने और चलाने के लिए आवश्यक उपकरणों की खरीद और मरम्मत के लिए किया जा सकता है ।

अधिकारियों के अनुसार, सशस्त्र बलों के वाइस चीफ्स, जिनमें एकीकृत रक्षा स्टाफ के प्रमुख, चीफ ऑफ स्टाफ कमेटी (सीआईएससी) और जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ्स (जीओसी-इन-सीएस) और तीनों सेनाओं के समकक्ष इन खरीद शक्तियां प्रदान की गई हैं ।

कोर/एरिया कमांडरों को अब प्रति केस 50 लाख रुपये और डिवीजन/सब-एरिया कमांडरों को कोविड संगरोध और उपचार सुविधाएं स्थापित करने के लिए प्रति केस 20 लाख रुपये मिल सकेंगे।

 

कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में रक्षा मंत्री ने सशस्त्र बलों को दी आपातकालीन वित्तीय शक्तियां

                                   

Last updated on May 12th, 2021 at 10:34 am

रक्षा मंत्री के कार्यालय ने बताया है कि सशस्त्र बलों को सशक्त बनाने और कोविड-19 स्थिति के खिलाफ देशव्यापी लड़ाई में अपने प्रयासों को तेज़ करने के लिए राजनाथ सिंह ने विशेष प्रावधान लागू कर सशस्त्र बलों को आपातकालीन वित्तीय शक्तियां प्रदान कीं। बतौर कार्यालय, ये शक्तियां उन्हें क्वारंटीन सेंटरों और अस्पतालों को स्थापित व संचालित करने में मदद करेंगी।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सशस्त्र बलों को विशेष अधिकार देने के लिए शुक्रवार को आपात प्रावधान लागू किए। इस निर्णय से सशस्त्र बल सहविड-19 संगरोध केन्द्रों और अस्पतालों की स्थापना और संचालन कर सकेंगे।

पिछले एक महीने में, सशस्त्र बलों के तीनों हथियारों को कोरोनावायरस महामारी की दूसरी लहर के खिलाफ भीषण लड़ाई में देश की सहायता के लिए उतारा गया है । डीआरडीओ पहले ही दिल्ली, लखनऊ और देश के अन्य हिस्सों में कोविद मरीजों के लिए आइसोलेशन और इलाज की सुविधा स्थापित कर चुका है।रक्षा मंत्री द्वारा लागू किए गए आपातकालीन प्रावधानों से गठन कमांडरों को कोविड-19 रोगियों के लिए संगरोध सुविधाएं और अस्पताल स्थापित करने और संचालित करने का अधिकार मिलेगा । उनके पास धन तक भी आसानी से पहुंच होगी जिसका उपयोग ऐसी सुविधाओं को प्राप्त करने और चलाने के लिए आवश्यक उपकरणों की खरीद और मरम्मत के लिए किया जा सकता है ।

अधिकारियों के अनुसार, सशस्त्र बलों के वाइस चीफ्स, जिनमें एकीकृत रक्षा स्टाफ के प्रमुख, चीफ ऑफ स्टाफ कमेटी (सीआईएससी) और जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ्स (जीओसी-इन-सीएस) और तीनों सेनाओं के समकक्ष इन खरीद शक्तियां प्रदान की गई हैं ।

कोर/एरिया कमांडरों को अब प्रति केस 50 लाख रुपये और डिवीजन/सब-एरिया कमांडरों को कोविड संगरोध और उपचार सुविधाएं स्थापित करने के लिए प्रति केस 20 लाख रुपये मिल सकेंगे।

 

Comments are closed.

Share This On Social Media!