Last updated on May 12th, 2021 at 10:19 am

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज न्यायमूर्ति एम.वाई. इकबाल का शुक्रवार सुबह दिल्ली में निधन हो गया। सीजेआई एन.वी. रमणा ने 2012 से 2016 तक सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश रहे जस्टिस इकबाल के निधन पर शोक व्यक्त किया है। जस्टिस इकबाल ने पटना और झारखंड हाईकोर्ट में जज व मद्रास हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के तौर पर भी सेवा दी थी।

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस एम. आई. इकबाल का गुरुवार को निधन हो गया. जस्टिस एम. वाई. इकबाल हाल में ही कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे. उनका इलाज दिल्ली के मेदांता अस्पताल में चल रहा था. गुरुवार सुबह को उनकी तबियत बिगड़ने के कारण उनको वेंटिलेटर पर रखा गया था. जहां उनका निधन हो गया. जस्टिस एम. वाई. इकबाल झारखंड हाई कोर्ट और मद्रास हाई कोर्ट के जज का भी कार्यभार संभाला था. एम. वाई. इकबाल साल 2016 में सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस पद से रिटायर हुए थे.

एम. वाई. इकबाल का जन्म 13 फरवरी 1951 को एक मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था. उन्होंने अपनी शुरुआती शिक्षा रांची जिला स्कूल से 1971 में पूरा किया. उसके बाद बीएससी में स्नातक रांची यूनिवर्सिटी से पूरा किया. एम. वाई. इकबाल ने छोटानागपुर लॉ कॉलेज से वकालत की पढ़ाई किया. और वहां वह गोल्ड मेडलिस्ट रहे. जो उन दिनों दुर्लभ घटना थी. 1975 से सिविल कोर्ट ने प्रैक्टिस शुरू किया. और जल्दी अपने प्रतिभा और स्किल पर अपनी अलग पहचान बनाया.

एम. वाई. इकबाल को 9 मई 1996 को पटना हाई कोर्ट का स्थाई जज बना दिया गया. उसके बाद 14 नवंबर 2000 को झारखंड हाई कोर्ट का जज घोषित किया गया. एम. वाई. इकबाल 11 जून 2010 से 21 दिसंबर 2012 तक मद्रास उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश थे. उच्च न्यायालय में न्यायाधीश के रूप में 16 साल तक काम करने के बाद उनको 24 दिसंबर 2012 को भारत के सर्वोच्च न्यायालय का न्यायाधीश बनाया गया

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस एम.वाई. इकबाल का हुआ निधन, सीजेआई ने जताया शोक

                                   

Last updated on May 12th, 2021 at 10:19 am

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज न्यायमूर्ति एम.वाई. इकबाल का शुक्रवार सुबह दिल्ली में निधन हो गया। सीजेआई एन.वी. रमणा ने 2012 से 2016 तक सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश रहे जस्टिस इकबाल के निधन पर शोक व्यक्त किया है। जस्टिस इकबाल ने पटना और झारखंड हाईकोर्ट में जज व मद्रास हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के तौर पर भी सेवा दी थी।

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस एम. आई. इकबाल का गुरुवार को निधन हो गया. जस्टिस एम. वाई. इकबाल हाल में ही कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे. उनका इलाज दिल्ली के मेदांता अस्पताल में चल रहा था. गुरुवार सुबह को उनकी तबियत बिगड़ने के कारण उनको वेंटिलेटर पर रखा गया था. जहां उनका निधन हो गया. जस्टिस एम. वाई. इकबाल झारखंड हाई कोर्ट और मद्रास हाई कोर्ट के जज का भी कार्यभार संभाला था. एम. वाई. इकबाल साल 2016 में सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस पद से रिटायर हुए थे.

एम. वाई. इकबाल का जन्म 13 फरवरी 1951 को एक मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था. उन्होंने अपनी शुरुआती शिक्षा रांची जिला स्कूल से 1971 में पूरा किया. उसके बाद बीएससी में स्नातक रांची यूनिवर्सिटी से पूरा किया. एम. वाई. इकबाल ने छोटानागपुर लॉ कॉलेज से वकालत की पढ़ाई किया. और वहां वह गोल्ड मेडलिस्ट रहे. जो उन दिनों दुर्लभ घटना थी. 1975 से सिविल कोर्ट ने प्रैक्टिस शुरू किया. और जल्दी अपने प्रतिभा और स्किल पर अपनी अलग पहचान बनाया.

एम. वाई. इकबाल को 9 मई 1996 को पटना हाई कोर्ट का स्थाई जज बना दिया गया. उसके बाद 14 नवंबर 2000 को झारखंड हाई कोर्ट का जज घोषित किया गया. एम. वाई. इकबाल 11 जून 2010 से 21 दिसंबर 2012 तक मद्रास उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश थे. उच्च न्यायालय में न्यायाधीश के रूप में 16 साल तक काम करने के बाद उनको 24 दिसंबर 2012 को भारत के सर्वोच्च न्यायालय का न्यायाधीश बनाया गया

Comments are closed.

Share This On Social Media!