Last updated on May 12th, 2021 at 10:40 am

कुंभ मेले के आखिरी ‘शाही स्नान’ के खत्म होने के बाद उत्तराखंड के हरिद्वार में बुधवार (28 अप्रैल) से कर्फ्यू के आदेश जारी कर दिए गए हैं। हरिद्वार, रुड़की, लक्सर और भगवानपुर के शहरी क्षेत्रों में 3 मई की सुबह 5 बजे तक चलने वाले ‘कोरोना कर्फ्यू’ के दौरान सिर्फ आवश्यक सेवाओं की अनुमति दी जाएगी।

उत्तराखंड के हरिद्वार, रुड़की, लक्सर और भगवानपुर में बुधवार (28 अप्रैल) से तीन मई की सुबह पांच बजे तक कर्फ्यू लगा दिया गया है।

कुंभ मेले के अंतिम ‘शाही स्नान’ के तुरंत बाद कोरोना कर्फ्यू की अवधि के लिए केवल आवश्यक सेवाओं की अनुमति दी जाएगी।मंगलवार को हरिद्वार के कुंभ मेले में अंतिम ‘शाही स्नान’ कोविड-19 मामलों में राष्ट्रव्यापी वृद्धि को देखते हुए अनुष्ठान ‘प्रतीकात्मक’ रखने वाले सेरों के साथ एक मातहत चक्कर था।

पीटीआई ने बताया कि शाही स्नान के समापन तक 13 ‘ अखादास ‘ के लगभग 2,000 सीरों ने हर की पैरी घाट पर गंगा में डुबकी लगाई जो उनके लिए आरक्षित थी ।

इस बीच, राज्य में कोरोनावायरस संक्रमण का शिकार ९६ लोगों ने मंगलवार को 5,703 मामले सामने आने पर भी दम तोड़ दिया । पिछले साल महामारी फैलने के बाद से यह सबसे ज्यादा सिंगल-डे काउंट है ।

स्वास्थ्य विभाग के एक बुलेटिन में कहा गया है कि इस संक्रमण से राज्य में 2,301 की मौत हो गई है, जिसमें अब तक 1,62,562 की सूचना मिली है ।बुलेटिन में कहा गया है कि राज्य में 43,032 सक्रिय मामले हैं जबकि 1,13,736 लोग अब तक संक्रमण से उबर चुके हैं ।

उत्तराखंड सरकार ने हरिद्वार और अन्य 3 शहरों में कल से 3 मई तक के लिए लगाया कर्फ्यू

                                   

Last updated on May 12th, 2021 at 10:40 am

कुंभ मेले के आखिरी ‘शाही स्नान’ के खत्म होने के बाद उत्तराखंड के हरिद्वार में बुधवार (28 अप्रैल) से कर्फ्यू के आदेश जारी कर दिए गए हैं। हरिद्वार, रुड़की, लक्सर और भगवानपुर के शहरी क्षेत्रों में 3 मई की सुबह 5 बजे तक चलने वाले ‘कोरोना कर्फ्यू’ के दौरान सिर्फ आवश्यक सेवाओं की अनुमति दी जाएगी।

उत्तराखंड के हरिद्वार, रुड़की, लक्सर और भगवानपुर में बुधवार (28 अप्रैल) से तीन मई की सुबह पांच बजे तक कर्फ्यू लगा दिया गया है।

कुंभ मेले के अंतिम ‘शाही स्नान’ के तुरंत बाद कोरोना कर्फ्यू की अवधि के लिए केवल आवश्यक सेवाओं की अनुमति दी जाएगी।मंगलवार को हरिद्वार के कुंभ मेले में अंतिम ‘शाही स्नान’ कोविड-19 मामलों में राष्ट्रव्यापी वृद्धि को देखते हुए अनुष्ठान ‘प्रतीकात्मक’ रखने वाले सेरों के साथ एक मातहत चक्कर था।

पीटीआई ने बताया कि शाही स्नान के समापन तक 13 ‘ अखादास ‘ के लगभग 2,000 सीरों ने हर की पैरी घाट पर गंगा में डुबकी लगाई जो उनके लिए आरक्षित थी ।

इस बीच, राज्य में कोरोनावायरस संक्रमण का शिकार ९६ लोगों ने मंगलवार को 5,703 मामले सामने आने पर भी दम तोड़ दिया । पिछले साल महामारी फैलने के बाद से यह सबसे ज्यादा सिंगल-डे काउंट है ।

स्वास्थ्य विभाग के एक बुलेटिन में कहा गया है कि इस संक्रमण से राज्य में 2,301 की मौत हो गई है, जिसमें अब तक 1,62,562 की सूचना मिली है ।बुलेटिन में कहा गया है कि राज्य में 43,032 सक्रिय मामले हैं जबकि 1,13,736 लोग अब तक संक्रमण से उबर चुके हैं ।

Comments are closed.

Share This On Social Media!