पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को बीते महीने कूच बिहार के सीतलकुची में हुई गोलीबारी की घटना में मरने वाले 5 लोगों के परिवारों के एक-एक सदस्य को होमगार्ड की नौकरी दिलाने की घोषणा की। इससे पहले बनर्जी ने गोलीबारी के लिए सीएपीएफ को दोषी ठहराते हुए सत्ता में आने पर जांच का वादा किया था।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को घोषणा की कि उनकी सरकार सीएपीएफ गोलीबारी में मारे गए चार लोगों में से एक परिवार के सदस्य को होमगार्ड की नौकरी देगी और दूसरा पिछले महीने कूच बिहार के सीतालकुची इलाके में झड़प में ।

इस बीच माथाभांगा थाने के जांच अधिकारी मलय बसु से सीआइडी की विशेष जांच टीम (एसआईटी) ने पूछताछ की। गोलीबारी की जांच के लिए डीआईजी-सीआईडी कल्याण मुखर्जी के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया गया था। बसु से तीन घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की गई और उनके इस घटना का संस्करण रिकॉर्ड किया गया । सीआईडी सूत्रों ने बताया कि माथाभांगा थाने के प्रभारी बिय्यराय सरकार से भी पूछताछ हो सकती है।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, माथाभांगा थाने के प्रभारी के बाद चश्मदीद गवाह रहे अन्य पुलिस कर्मियों से पूछताछ की जाएगी। उसके बाद एसआईटी घटनास्थल का दौरा करेगी। वे मृतक के परिवार के साथ भी बात करेंगे। इसके बाद सीआईएसएफ कमांडेंट और जवानों को बुलाया जाए। अधिकारी के मुताबिक बुधवार को निलंबित किए गए पूर्व कूच बिहार एसपी देबाशीष धर से भी पूछताछ हो सकती है।

कूच बिहार में फायरिंग उस समय हुई जब 10 अप्रैल को विधानसभा चुनाव के चौथे चरण के लिए वोटिंग की कवायद चल रही थी। मुख्यमंत्री ने राज्य सचिवालय में संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा, हमारी सरकार सीतलकुची पीड़ितों के परिजनों को होमगार्ड की नौकरियां भी देगी ।

कूच बिहार फायरिंग की घटना में मरने वालों के परिजनों को होमगार्ड की नौकरी: बंगाल की सीएम

                                   

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को बीते महीने कूच बिहार के सीतलकुची में हुई गोलीबारी की घटना में मरने वाले 5 लोगों के परिवारों के एक-एक सदस्य को होमगार्ड की नौकरी दिलाने की घोषणा की। इससे पहले बनर्जी ने गोलीबारी के लिए सीएपीएफ को दोषी ठहराते हुए सत्ता में आने पर जांच का वादा किया था।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को घोषणा की कि उनकी सरकार सीएपीएफ गोलीबारी में मारे गए चार लोगों में से एक परिवार के सदस्य को होमगार्ड की नौकरी देगी और दूसरा पिछले महीने कूच बिहार के सीतालकुची इलाके में झड़प में ।

इस बीच माथाभांगा थाने के जांच अधिकारी मलय बसु से सीआइडी की विशेष जांच टीम (एसआईटी) ने पूछताछ की। गोलीबारी की जांच के लिए डीआईजी-सीआईडी कल्याण मुखर्जी के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया गया था। बसु से तीन घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की गई और उनके इस घटना का संस्करण रिकॉर्ड किया गया । सीआईडी सूत्रों ने बताया कि माथाभांगा थाने के प्रभारी बिय्यराय सरकार से भी पूछताछ हो सकती है।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, माथाभांगा थाने के प्रभारी के बाद चश्मदीद गवाह रहे अन्य पुलिस कर्मियों से पूछताछ की जाएगी। उसके बाद एसआईटी घटनास्थल का दौरा करेगी। वे मृतक के परिवार के साथ भी बात करेंगे। इसके बाद सीआईएसएफ कमांडेंट और जवानों को बुलाया जाए। अधिकारी के मुताबिक बुधवार को निलंबित किए गए पूर्व कूच बिहार एसपी देबाशीष धर से भी पूछताछ हो सकती है।

कूच बिहार में फायरिंग उस समय हुई जब 10 अप्रैल को विधानसभा चुनाव के चौथे चरण के लिए वोटिंग की कवायद चल रही थी। मुख्यमंत्री ने राज्य सचिवालय में संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा, हमारी सरकार सीतलकुची पीड़ितों के परिजनों को होमगार्ड की नौकरियां भी देगी ।

Comments are closed.

Share This On Social Media!