मुंबई के पूर्व सीपी परम बीर सिंह द्वारा उनके खिलाफ लगाए गए जबरन वसूली के आरोपों की एफआईआर दर्ज करने के बाद सीबीआई महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख के आवास सहित कम से कम तीन जगहों पर तलाशी ले रही है ।
एजेंसी ने शुक्रवार को अपनी प्रारंभिक जांच समाप्त होने के बाद देशमुख के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज की ।14 अप्रैल को सीबीआई ने मुंबई के पूर्व सीपी, निलंबित एपीआई सचिन वाज़े और एसीपी संजय पाटिल द्वारा उन्हें भेजे गए वॉट्सऐप मेसेज की प्रामाणिकता पर फोकस करते हुए देशमुख को आठ घंटे तक ग्रील्ड किया था।सीबीआई टीम ने देशमुख से पूछा था कि क्या वेज़ उनके आवास पर उनसे मिलने जाएंगे और अगर पूर्व गृह मंत्री के लिए उनके घर पर वाज़ रैंक के अधिकारियों से मिलना सामान्य था ।देशमुख को डीआरडीओ के गेस्ट हाउस में दो पुलिस अधीक्षक रैंक के अधिकारियों-अभिषेक दुलार और किरण एस ने ग्रील्ड किया था । सूत्र ने बताया, दोनों सांसद हाई प्रोफाइल मामले की जांच के लिए बारह सदस्यीय टीम का हिस्सा हैं

सिंह ने बेहद खास आरोप लगाया है कि देशमुख ने मुंबई पुलिस को बार और होटलों के मालिकों से उगाही करने के लिए 100 करोड़ रुपये का लक्ष्य रखा था। सिंह ने महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे को अपना विस्फोटक पत्र तब शूट किया था जब मुंबई पुलिस और राज्य सरकार उद्योगपति मुकेश अंबानी के आवास के बाहर एक वाहन में विस्फोटक लगाने में वजीर की भूमिका के बारे में खुलासा कर रही थी ।

सीबीआई ने भ्रष्टाचार के आरोप में अनिल देशमुख के खिलाफ दर्ज की एफआईआर

                                   

मुंबई के पूर्व सीपी परम बीर सिंह द्वारा उनके खिलाफ लगाए गए जबरन वसूली के आरोपों की एफआईआर दर्ज करने के बाद सीबीआई महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख के आवास सहित कम से कम तीन जगहों पर तलाशी ले रही है ।
एजेंसी ने शुक्रवार को अपनी प्रारंभिक जांच समाप्त होने के बाद देशमुख के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज की ।14 अप्रैल को सीबीआई ने मुंबई के पूर्व सीपी, निलंबित एपीआई सचिन वाज़े और एसीपी संजय पाटिल द्वारा उन्हें भेजे गए वॉट्सऐप मेसेज की प्रामाणिकता पर फोकस करते हुए देशमुख को आठ घंटे तक ग्रील्ड किया था।सीबीआई टीम ने देशमुख से पूछा था कि क्या वेज़ उनके आवास पर उनसे मिलने जाएंगे और अगर पूर्व गृह मंत्री के लिए उनके घर पर वाज़ रैंक के अधिकारियों से मिलना सामान्य था ।देशमुख को डीआरडीओ के गेस्ट हाउस में दो पुलिस अधीक्षक रैंक के अधिकारियों-अभिषेक दुलार और किरण एस ने ग्रील्ड किया था । सूत्र ने बताया, दोनों सांसद हाई प्रोफाइल मामले की जांच के लिए बारह सदस्यीय टीम का हिस्सा हैं

सिंह ने बेहद खास आरोप लगाया है कि देशमुख ने मुंबई पुलिस को बार और होटलों के मालिकों से उगाही करने के लिए 100 करोड़ रुपये का लक्ष्य रखा था। सिंह ने महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे को अपना विस्फोटक पत्र तब शूट किया था जब मुंबई पुलिस और राज्य सरकार उद्योगपति मुकेश अंबानी के आवास के बाहर एक वाहन में विस्फोटक लगाने में वजीर की भूमिका के बारे में खुलासा कर रही थी ।

Comments are closed.

Share This On Social Media!