भोपाल, 12 मई 2021 अतिरिक्‍त पुलिस महानिदेशक राज्‍य सायबर श्री योगेश चौधरी ने एडवाइजरी जारी करते हुए कहा कि वर्तमान कोरोना महामारी का फायदा उठाते हुये सायबर अपराधी एक फर्जी मोबाइल एप्लीकेशन बनाकर उसकी लिंक मैसेज के माध्यम से भेज कर Vaccine Registration हेतु उसे डाउनलोड करने के लिये कहते हैं। उसके बाद एप्लीकेशन के माध्यम से मेलवेयर हमारे मोबाइल मैं आ जाते हैं जो कि हमारे मोबाइल सुरक्षा के लिये घातक होते हैं।

  श्री चौधरी ने कहा कि आजकल सायबर अपराधियों द्वारा एक तरह की फर्जी मोबाइल एप्लीकेशन तैयार कर मैसेज के माध्यम से कोविड वेक्सीन के लिये रजिस्ट्रेशन की एप्लीकेशन दिखाते हुये उक्त एप इंस्टाल करने के लिये लुभाते हैं। जब हम लिंक पर क्लिक करके उस एप्लीकेशन को इंस्टाल करते हैं तो वह हमारे मोबाइल की बहुत सारी परमीशन लेता है जो की हम दे देते हैं। फिर वह एप्लीकेशन अपना असली काम शुरू करती है, वह हमारे पर्सनल फोटोस, वीडियोस सारे कॉंटेक्ट, एसएमएस, व्हाट्सएप की चेट, मोबाइल में सेव बैंकिंग के पासवर्ड हमारे सारे ईमेल आदि सायबर अपराधियों तक पहुंचा देती है। इसके अलावा हमारी जानकारी के बगैर यह एप हमारे सभी कॉंटेक्ट को मैसेज भेज सकता है। अपराधी जानकारी प्राप्त कर हमें आर्थिक और सामाजिक रूप से नुकसान पहुंचाते हैं। यह एक तरह की फिशिंग तकनीक है जिसे "एसएमएस वोर्म" नाम दिया गया है।

  कोविड रजिस्ट्रेशन के लिये केवल Co-Win तथा आरोग्य सेतु एप के माध्यम से ही रजिस्ट्रेशन करें। सर्च, सोशल मीडिया अथवा अन्य संचार माध्यमों से किसी भी प्रकार के आये एसएमएस से प्राप्त किसी लिंक पर क्लिक नहीं करें। प्राप्त होने वाले फर्जी कॉल, एसएमएस और ईमेल पर बिना पुष्टि करे विश्वास न करें। अपनी व्यक्तिगत जानकारी जैसे, ओटीपी, पिन, आधार नम्बर, अकॉंउट नम्बर, डेबिट/क्रेडिट कार्ड की जानकारी किसी से शेयर न करें। स्वयं भी इस तरह के एसएमएस से बचें व बिना पुष्टि किये इस तरह के मैसेज को आगे फारवर्ड व शेयर करने से भी बचें। अपने मोबाइल के जरूरी अपडेट को समय समय पर इंस्टाल करते रहे जो आपके मोबाइल को इस तरह के मैलवेयर हमले से बचा कर रखते हैं। साथ ही कोई अच्छा एंटीवायरस अपने मोबाइल में इंस्टाल करें। यदि आपके साथ ऐसा कोई अपराध हो तो उसकी शिकायत अपने नजदीकी पुलिस थाने में या www.cybercrime.gov.in या टॉल फ्री नम्बर 155260 पर करें।

कोविड-19 वेक्सीन रजिस्ट्रेशन के नाम पर फर्जी मोबाइल एप्लीकेशन से बचाव के लिए राज्‍य सायबर पुलिस ने जारी की एडवाइजरी

                                   

भोपाल, 12 मई 2021 अतिरिक्‍त पुलिस महानिदेशक राज्‍य सायबर श्री योगेश चौधरी ने एडवाइजरी जारी करते हुए कहा कि वर्तमान कोरोना महामारी का फायदा उठाते हुये सायबर अपराधी एक फर्जी मोबाइल एप्लीकेशन बनाकर उसकी लिंक मैसेज के माध्यम से भेज कर Vaccine Registration हेतु उसे डाउनलोड करने के लिये कहते हैं। उसके बाद एप्लीकेशन के माध्यम से मेलवेयर हमारे मोबाइल मैं आ जाते हैं जो कि हमारे मोबाइल सुरक्षा के लिये घातक होते हैं।

  श्री चौधरी ने कहा कि आजकल सायबर अपराधियों द्वारा एक तरह की फर्जी मोबाइल एप्लीकेशन तैयार कर मैसेज के माध्यम से कोविड वेक्सीन के लिये रजिस्ट्रेशन की एप्लीकेशन दिखाते हुये उक्त एप इंस्टाल करने के लिये लुभाते हैं। जब हम लिंक पर क्लिक करके उस एप्लीकेशन को इंस्टाल करते हैं तो वह हमारे मोबाइल की बहुत सारी परमीशन लेता है जो की हम दे देते हैं। फिर वह एप्लीकेशन अपना असली काम शुरू करती है, वह हमारे पर्सनल फोटोस, वीडियोस सारे कॉंटेक्ट, एसएमएस, व्हाट्सएप की चेट, मोबाइल में सेव बैंकिंग के पासवर्ड हमारे सारे ईमेल आदि सायबर अपराधियों तक पहुंचा देती है। इसके अलावा हमारी जानकारी के बगैर यह एप हमारे सभी कॉंटेक्ट को मैसेज भेज सकता है। अपराधी जानकारी प्राप्त कर हमें आर्थिक और सामाजिक रूप से नुकसान पहुंचाते हैं। यह एक तरह की फिशिंग तकनीक है जिसे "एसएमएस वोर्म" नाम दिया गया है।

  कोविड रजिस्ट्रेशन के लिये केवल Co-Win तथा आरोग्य सेतु एप के माध्यम से ही रजिस्ट्रेशन करें। सर्च, सोशल मीडिया अथवा अन्य संचार माध्यमों से किसी भी प्रकार के आये एसएमएस से प्राप्त किसी लिंक पर क्लिक नहीं करें। प्राप्त होने वाले फर्जी कॉल, एसएमएस और ईमेल पर बिना पुष्टि करे विश्वास न करें। अपनी व्यक्तिगत जानकारी जैसे, ओटीपी, पिन, आधार नम्बर, अकॉंउट नम्बर, डेबिट/क्रेडिट कार्ड की जानकारी किसी से शेयर न करें। स्वयं भी इस तरह के एसएमएस से बचें व बिना पुष्टि किये इस तरह के मैसेज को आगे फारवर्ड व शेयर करने से भी बचें। अपने मोबाइल के जरूरी अपडेट को समय समय पर इंस्टाल करते रहे जो आपके मोबाइल को इस तरह के मैलवेयर हमले से बचा कर रखते हैं। साथ ही कोई अच्छा एंटीवायरस अपने मोबाइल में इंस्टाल करें। यदि आपके साथ ऐसा कोई अपराध हो तो उसकी शिकायत अपने नजदीकी पुलिस थाने में या www.cybercrime.gov.in या टॉल फ्री नम्बर 155260 पर करें।

Comments are closed.

Share This On Social Media!