Last updated on May 11th, 2021 at 03:23 am

शनिवार को केंद्र सरकार पर निशाना लगाते हुए दिल्ली के उप-मुख़्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि उच्च न्यायलय के निर्देश के बाद भी दिल्ली को शुक्रवार को 487 मीट्रिक टन(एमटी) ऑक्सीजन मिली और इतनी ऑक्सीजन में अस्पतालों की आपूर्ति करना बहुत मुश्किल है। उन्होंने केंद्र से कहा, “हमें 700 एमटी ऑक्सीजन चाहिए, इससे समझौता करना मौजूदा समय में भर्ती मरीजो के लिए सही नहीं है।”

उपमुख्यमंत्री सिसोदिया ने बुधवार को हरियाणा सरकार पर दिल्ली में मेडिकल ऑक्सीजन सप्लाई रोकने का आरोप लगाया, जहां लगातार दूसरे दिन इसकी कमी के बीच कोरोनावायरस मरीजों की जान बचाने के लिए कई अस्पतालों में हाथापाई हुई ।

हरियाणा सरकार ने इन आरोपों का पुरजोर खंडन करते हुए इस बात को रेखांकित किया कि प्रशासन में किसी ने किसी भी चीज में बाधा नहीं डाली ।एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए सिसोदिया ने कहा कि AAP सरकार मांग कर रही थी कि केंद्र दिल्ली के ऑक्सीजन का कोटा 378 मीट्रिक टन से बढ़ाकर 700 मीट्रिक टन करे ।

उपमुख्यमंत्री ने कहा, राज्यों के लिए ऑक्सीजन का कोटा तय करने वाली केंद्र सरकार को अभी इस दिशा में कोई कदम उठाना है।

“हम फिर मांग करते हैं कि बढ़ी हुई खपत को देखते हुए केंद्र हमारे ऑक्सीजन कोटे को बढ़ाकर ७०० मीट्रिक टन करे । सिसोदिया ने कहा, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान सहित कई राज्यों के मरीज शहर के अस्पतालों में भर्ती हैं ।

उन्होंने दावा किया कि हरियाणा सरकार के एक अधिकारी ने फरीदाबाद के एक प्लांट से ऑक्सीजन सप्लाई बंद कर दी।

सिसोदिया ने कहा कि एक दिन पहले उत्तर प्रदेश में भी इसी तरह की घटना हुई थी और इससे कुछ अस्पतालों में संकट पैदा हो गया था, जिससे ऑक्सीजन की आपूर्ति अब बहाल हो गई थी । उन्होंने मांग की कि राज्यों को इसमें हस्तक्षेप किए बिना ऑक्सीजन का उनका आवंटित हिस्सा मिलना चाहिए ।

दिल्ली की ऑक्सीजन पूर्ति नहीं, शुक्रवार को 700 एमटी में से 487 एमटी ऑक्सीजन मिली : दिल्ली सरकार

                                   

Last updated on May 11th, 2021 at 03:23 am

शनिवार को केंद्र सरकार पर निशाना लगाते हुए दिल्ली के उप-मुख़्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि उच्च न्यायलय के निर्देश के बाद भी दिल्ली को शुक्रवार को 487 मीट्रिक टन(एमटी) ऑक्सीजन मिली और इतनी ऑक्सीजन में अस्पतालों की आपूर्ति करना बहुत मुश्किल है। उन्होंने केंद्र से कहा, “हमें 700 एमटी ऑक्सीजन चाहिए, इससे समझौता करना मौजूदा समय में भर्ती मरीजो के लिए सही नहीं है।”

उपमुख्यमंत्री सिसोदिया ने बुधवार को हरियाणा सरकार पर दिल्ली में मेडिकल ऑक्सीजन सप्लाई रोकने का आरोप लगाया, जहां लगातार दूसरे दिन इसकी कमी के बीच कोरोनावायरस मरीजों की जान बचाने के लिए कई अस्पतालों में हाथापाई हुई ।

हरियाणा सरकार ने इन आरोपों का पुरजोर खंडन करते हुए इस बात को रेखांकित किया कि प्रशासन में किसी ने किसी भी चीज में बाधा नहीं डाली ।एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए सिसोदिया ने कहा कि AAP सरकार मांग कर रही थी कि केंद्र दिल्ली के ऑक्सीजन का कोटा 378 मीट्रिक टन से बढ़ाकर 700 मीट्रिक टन करे ।

उपमुख्यमंत्री ने कहा, राज्यों के लिए ऑक्सीजन का कोटा तय करने वाली केंद्र सरकार को अभी इस दिशा में कोई कदम उठाना है।

“हम फिर मांग करते हैं कि बढ़ी हुई खपत को देखते हुए केंद्र हमारे ऑक्सीजन कोटे को बढ़ाकर ७०० मीट्रिक टन करे । सिसोदिया ने कहा, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान सहित कई राज्यों के मरीज शहर के अस्पतालों में भर्ती हैं ।

उन्होंने दावा किया कि हरियाणा सरकार के एक अधिकारी ने फरीदाबाद के एक प्लांट से ऑक्सीजन सप्लाई बंद कर दी।

सिसोदिया ने कहा कि एक दिन पहले उत्तर प्रदेश में भी इसी तरह की घटना हुई थी और इससे कुछ अस्पतालों में संकट पैदा हो गया था, जिससे ऑक्सीजन की आपूर्ति अब बहाल हो गई थी । उन्होंने मांग की कि राज्यों को इसमें हस्तक्षेप किए बिना ऑक्सीजन का उनका आवंटित हिस्सा मिलना चाहिए ।

Comments are closed.

Share This On Social Media!