करतार न्यूज़ प्रतिनिधि:– दस हत्याओं का आरोपी गैंगस्टर गुड्डु चौहान और उसके साथ बदमाश सौरभ भदौरिया उर्फ गोविंद उर्फ़ प्रदीप के खोजबीन करते करते यूपी पुलिस पहुँच गई मध्यप्रदेश के ग्वालियर जहाँ उन्हें बंधक बना लिया गया ।
मामला यह है कि यूपी पुलिस 10 हत्याओं के आरोपी और उनके साथी को पकड़ने की तलाश में जुटे थे। यह तलाशी यूपी के इंस्पेक्टर ओमजीत वाजपेयी और सब इंस्पेक्टर अमित सिंह के नेतृत्व की जा रही थी। जिसमे उनको ये सूचना मिली कि को मध्यप्रदेश के ग्वालियर में छिपे बैठे हैं जिसके बाद यूपी पुलिस ने बीना किसी सूचना के उनलोगों के गिरफ्तारी के लिए निकल पड़े। लेकिन नियमानुसार यूपी पुलिस को मध्यप्रदेश पुलिस को इस बात की खबर देना अनिवार्य था लेकिन उनलोगों ने ऐसा किये बिना ही ग्वालियर पहुँच गए।
कैसे बनाया गया बंधक
सूचना के मुताबिक यूपी पुलिस सीध ग्वालियर में रानीपुरा सोनू राठौड़ के घर पर पहुँच गई। क्योंकि सूचना यह मिली थी कि सोनू ने सौरभ की अपने घर मे छिपा रखा है। इसलिए इंस्पेक्टर ओमजीत वाजपेयी और सब इंस्पेक्टर अमित सिंह ने सोनू राठौड़ पर बैठकर बातचीत करने लगे और अपने टीम की दो पुलिस जवानों की सिविल ड्रेस में आरोपियों के अड्डे पर भेजे। जहाँ से सौरभ भदौरिया को जवानों ने पकड़ लिया। बदमाश सौरभ घर में उस वक़्त सो रहा था। जिसके बाद जवान उसे पकड़ कर दूर लगी गाड़ी स्कोर्पियो तक ला रहे थे उस बीच बदमाश के कुछ साथी और वहाँ के स्थानीय लोगो ने घेर लिया फिर भी जवान ने सौरभ भदौरिया को गाड़ी में बैठाया जिसके बाद मौजुद लोग ने उनके ऊपर पत्थर फेंकना शुरू कर दिए और यूपी पुलिस के दोनो जवानों को बंधन बना लिया।

मध्यप्रदेश ग्वालियर में यूपी पुलिस बने बंधक।

                                   

करतार न्यूज़ प्रतिनिधि:– दस हत्याओं का आरोपी गैंगस्टर गुड्डु चौहान और उसके साथ बदमाश सौरभ भदौरिया उर्फ गोविंद उर्फ़ प्रदीप के खोजबीन करते करते यूपी पुलिस पहुँच गई मध्यप्रदेश के ग्वालियर जहाँ उन्हें बंधक बना लिया गया ।
मामला यह है कि यूपी पुलिस 10 हत्याओं के आरोपी और उनके साथी को पकड़ने की तलाश में जुटे थे। यह तलाशी यूपी के इंस्पेक्टर ओमजीत वाजपेयी और सब इंस्पेक्टर अमित सिंह के नेतृत्व की जा रही थी। जिसमे उनको ये सूचना मिली कि को मध्यप्रदेश के ग्वालियर में छिपे बैठे हैं जिसके बाद यूपी पुलिस ने बीना किसी सूचना के उनलोगों के गिरफ्तारी के लिए निकल पड़े। लेकिन नियमानुसार यूपी पुलिस को मध्यप्रदेश पुलिस को इस बात की खबर देना अनिवार्य था लेकिन उनलोगों ने ऐसा किये बिना ही ग्वालियर पहुँच गए।
कैसे बनाया गया बंधक
सूचना के मुताबिक यूपी पुलिस सीध ग्वालियर में रानीपुरा सोनू राठौड़ के घर पर पहुँच गई। क्योंकि सूचना यह मिली थी कि सोनू ने सौरभ की अपने घर मे छिपा रखा है। इसलिए इंस्पेक्टर ओमजीत वाजपेयी और सब इंस्पेक्टर अमित सिंह ने सोनू राठौड़ पर बैठकर बातचीत करने लगे और अपने टीम की दो पुलिस जवानों की सिविल ड्रेस में आरोपियों के अड्डे पर भेजे। जहाँ से सौरभ भदौरिया को जवानों ने पकड़ लिया। बदमाश सौरभ घर में उस वक़्त सो रहा था। जिसके बाद जवान उसे पकड़ कर दूर लगी गाड़ी स्कोर्पियो तक ला रहे थे उस बीच बदमाश के कुछ साथी और वहाँ के स्थानीय लोगो ने घेर लिया फिर भी जवान ने सौरभ भदौरिया को गाड़ी में बैठाया जिसके बाद मौजुद लोग ने उनके ऊपर पत्थर फेंकना शुरू कर दिए और यूपी पुलिस के दोनो जवानों को बंधन बना लिया।

Comments are closed.

Share This On Social Media!