नई दिल्ली ( करतार न्यूज़ प्रतिनिधि ): युवा मामलों और खेल मंत्रालय ने बुधवार को भारत सरकार के विदेश मंत्रालय के माध्यम से ब्रिटेन सरकार से संपर्क कर टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा के दो वर्षीय बेटे को वीजा प्रदान किया, ताकि वह टोक्यो ओलंपिक से पहले ब्रिटेन में कई प्रतियोगिताओं में भाग लेते हुए बच्चा अपने साथ ले जा सके ।

सानिया 6 जून से शुरू हो रहे नॉटिंघम ओपन में हिस्सा लेगी और इसके बाद 14 जून को बर्मिंघम ओपन, 20 जून को ईस्टबॉर्न ओपन, इसके बाद 28 जून से शुरू हो रहे विंबलडन ग्रैंड स्लैम में हिस्सा लेंगे।

भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) ने एक आधिकारिक बयान में कहा, हालांकि सानिया को नॉटिंघम की यात्रा करने के लिए वीजा प्रदान किया गया है, लेकिन भारतीय यात्रियों पर यात्रा प्रतिबंधों के कारण उनके बेटे और उनके कार्यवाहक को ब्रिटेन का वीजा नहीं मिला है ।

खेल मंत्रालय की टारगेट ओलिंपिक पोडियम स्कीम (टॉप्स) का हिस्सा रही सानिया ने मंत्रालय से संपर्क कर अपने बेटे और उनके कार्यवाहक के वीजा के साथ मदद का अनुरोध किया । सानिया ने कहा कि वह एक महीने तक यात्रा करते हुए दो साल के बच्चे को पीछे नहीं छोड़ सकती ।

इस अनुरोध को खेल मंत्रालय द्वारा तत्काल उठाया गया था और विदेश मंत्रालय को एक पत्र पहले ही भेजा जा चुका है जिसमें उनसे लंदन स्थित भारतीय दूतावास के माध्यम से ब्रिटेन में इस मामले को उठाने का अनुरोध किया गया था ।

मंत्रालय के प्रयास के बारे में बोलते हुए केंद्रीय युवा मामलों और खेल मंत्री किरण रिजिजू ने कहा, हमें कुछ दिन पहले सानिया के लिए यह अनुरोध मिला था और मुझे लगा कि यह महत्वपूर्ण है कि एक मां के रूप में सानिया को अपने दो साल के बेटे को साथ ले जाने की अनुमति दी जाए ताकि वह अपने बच्चे के लिए चिंता किए बिना स्वतंत्र मन से भाग ले सके ।

Imae Source: Instagram

खेल मंत्रालय ने सानिया मिर्जा के बेटे को दौरे की अनुमति देने के लिए ब्रिटेन सरकार से किया संपर्क

                                   

नई दिल्ली ( करतार न्यूज़ प्रतिनिधि ): युवा मामलों और खेल मंत्रालय ने बुधवार को भारत सरकार के विदेश मंत्रालय के माध्यम से ब्रिटेन सरकार से संपर्क कर टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा के दो वर्षीय बेटे को वीजा प्रदान किया, ताकि वह टोक्यो ओलंपिक से पहले ब्रिटेन में कई प्रतियोगिताओं में भाग लेते हुए बच्चा अपने साथ ले जा सके ।

सानिया 6 जून से शुरू हो रहे नॉटिंघम ओपन में हिस्सा लेगी और इसके बाद 14 जून को बर्मिंघम ओपन, 20 जून को ईस्टबॉर्न ओपन, इसके बाद 28 जून से शुरू हो रहे विंबलडन ग्रैंड स्लैम में हिस्सा लेंगे।

भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) ने एक आधिकारिक बयान में कहा, हालांकि सानिया को नॉटिंघम की यात्रा करने के लिए वीजा प्रदान किया गया है, लेकिन भारतीय यात्रियों पर यात्रा प्रतिबंधों के कारण उनके बेटे और उनके कार्यवाहक को ब्रिटेन का वीजा नहीं मिला है ।

खेल मंत्रालय की टारगेट ओलिंपिक पोडियम स्कीम (टॉप्स) का हिस्सा रही सानिया ने मंत्रालय से संपर्क कर अपने बेटे और उनके कार्यवाहक के वीजा के साथ मदद का अनुरोध किया । सानिया ने कहा कि वह एक महीने तक यात्रा करते हुए दो साल के बच्चे को पीछे नहीं छोड़ सकती ।

इस अनुरोध को खेल मंत्रालय द्वारा तत्काल उठाया गया था और विदेश मंत्रालय को एक पत्र पहले ही भेजा जा चुका है जिसमें उनसे लंदन स्थित भारतीय दूतावास के माध्यम से ब्रिटेन में इस मामले को उठाने का अनुरोध किया गया था ।

मंत्रालय के प्रयास के बारे में बोलते हुए केंद्रीय युवा मामलों और खेल मंत्री किरण रिजिजू ने कहा, हमें कुछ दिन पहले सानिया के लिए यह अनुरोध मिला था और मुझे लगा कि यह महत्वपूर्ण है कि एक मां के रूप में सानिया को अपने दो साल के बेटे को साथ ले जाने की अनुमति दी जाए ताकि वह अपने बच्चे के लिए चिंता किए बिना स्वतंत्र मन से भाग ले सके ।

Imae Source: Instagram

Comments are closed.

Share This On Social Media!