मुंबई (करतार न्यूज़ प्रतिनिधि):- टीवी जगत के मशहूर एंकर मनीष पॉल ने ह्यूमन ऑफ बॉम्बे के एक पोस्ट के जरिए अपने अपने जीवनी के बारे और जीवन मे आये संघर्ष के बारे में बताते है कि उनके जीवन मे कितने उत्तर चढ़ाव आये हैं और क्या है उनकी कहानी।
अपने पोस्ट में मनीष ने अपनी पत्नी, प्रेम कहानी और संघर्ष के दिनों के बारे में बतया कि अपनी पत्नी संयुक्ता को नर्सरी क्लास से जनता था और अच्छे दोस्त थे साथ साथ पढ़ते पढ़ते हमदोनो प्यार में आ गए और एक दूसरे को डेट करना शुरू कर दिए। और स्नातक पूरा होने के बाद संयुक्ता के कहने पर मुंबई एक अभिनेता के रूप में चले गए लेकिन वहाँ जाने के बाद कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ा लेकिन ऐसे में संयुक्ता चट्टान की ढाल बनकर खड़ी रही और साथ देती रही।
कठिन संघर्ष करने के बाद साल 2006 के अंत मे मुझे आरजे के रूप में एक नौकरी मिली और संयुक्ता ने समर्थन करते हुए शादी करने का फ़ैसला लिया। जिसके बाद हमदोनो साथ रहने तो लगे लेकिन मेरे साथ साथ संयुक्ता को भी संघर्ष करना पड़ रहा था लेकिन कभी भी उसने मेरे से इस बात की शिकायत नही की और एक टीचर का नौकरी करके मेरा साथ निभा रही थी।
इसी बीच वो अपनी नौकरी कर रही थी और मैं अपनी नौकरी और कुछ अलग असाइनमेंट पर काम करता था जिसके कारण एक दूसरे के लिए समय नही मिल पाता था लेकिन कभी भी शिकायत नहीं थी ।
मनीष ने बताया की जीवन मे ऐसा भी समय आया था जब घर के किराए देने तक के पैसे नही थे। यह बात साल 2008 की है जब मै बेरोजगार था और हमारे पास घर के किराए देने तक के पैसे नही थे तब पत्नी ने सबकुछ संभाला था और इस बात की शिकायत नही की थी और हौसला देते हुए मुझसे कहा कि “धैर्य रखो सब ठीक हो जाएगा, जल्द ही तुम्हे एक अच्छा अवसर मिलेगा” और आज अपनी पत्नी के हौसले के कारण मैं आज अच्छी जगह पर हूँ और बच्चों के लिए भी पर्याप्त समय निकलता हूँ और एक नियम यह है कि हमारे घर के टेबल पर काम की बातें नही होती है

manish paul biography
source: Google image

जब बेरोजगार था, किराया देने तक के पैसे नही थे: मनीष पॉल

                                   

मुंबई (करतार न्यूज़ प्रतिनिधि):- टीवी जगत के मशहूर एंकर मनीष पॉल ने ह्यूमन ऑफ बॉम्बे के एक पोस्ट के जरिए अपने अपने जीवनी के बारे और जीवन मे आये संघर्ष के बारे में बताते है कि उनके जीवन मे कितने उत्तर चढ़ाव आये हैं और क्या है उनकी कहानी।
अपने पोस्ट में मनीष ने अपनी पत्नी, प्रेम कहानी और संघर्ष के दिनों के बारे में बतया कि अपनी पत्नी संयुक्ता को नर्सरी क्लास से जनता था और अच्छे दोस्त थे साथ साथ पढ़ते पढ़ते हमदोनो प्यार में आ गए और एक दूसरे को डेट करना शुरू कर दिए। और स्नातक पूरा होने के बाद संयुक्ता के कहने पर मुंबई एक अभिनेता के रूप में चले गए लेकिन वहाँ जाने के बाद कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ा लेकिन ऐसे में संयुक्ता चट्टान की ढाल बनकर खड़ी रही और साथ देती रही।
कठिन संघर्ष करने के बाद साल 2006 के अंत मे मुझे आरजे के रूप में एक नौकरी मिली और संयुक्ता ने समर्थन करते हुए शादी करने का फ़ैसला लिया। जिसके बाद हमदोनो साथ रहने तो लगे लेकिन मेरे साथ साथ संयुक्ता को भी संघर्ष करना पड़ रहा था लेकिन कभी भी उसने मेरे से इस बात की शिकायत नही की और एक टीचर का नौकरी करके मेरा साथ निभा रही थी।
इसी बीच वो अपनी नौकरी कर रही थी और मैं अपनी नौकरी और कुछ अलग असाइनमेंट पर काम करता था जिसके कारण एक दूसरे के लिए समय नही मिल पाता था लेकिन कभी भी शिकायत नहीं थी ।
मनीष ने बताया की जीवन मे ऐसा भी समय आया था जब घर के किराए देने तक के पैसे नही थे। यह बात साल 2008 की है जब मै बेरोजगार था और हमारे पास घर के किराए देने तक के पैसे नही थे तब पत्नी ने सबकुछ संभाला था और इस बात की शिकायत नही की थी और हौसला देते हुए मुझसे कहा कि “धैर्य रखो सब ठीक हो जाएगा, जल्द ही तुम्हे एक अच्छा अवसर मिलेगा” और आज अपनी पत्नी के हौसले के कारण मैं आज अच्छी जगह पर हूँ और बच्चों के लिए भी पर्याप्त समय निकलता हूँ और एक नियम यह है कि हमारे घर के टेबल पर काम की बातें नही होती है

manish paul biography
source: Google image

Comments are closed.

Share This On Social Media!